कीट प्रबंधन हेतु क्रियाएँ

क्र. सं.

कीट का नाम

क्या करें

कब करें

क्यों करें

कैसे करें

क्या नहीं करें

क्यों नहीं करें

1.

तना मक्खी

(मेलेनोग्रोमिज़ा सोजी)

Stem fly (Melanagromyza sojae)

बीज को थायोमिथोक्साम ७० डब्लू. एस. से १० ग्राम प्रति किलो बीज कि दर से उपचारित करें

 

बोवाई से पूर्व

अंकुरण के ७-१० दिन बाद

 

तना मक्खी से होने वाली पौध-म्रत्यु को रोकने एवं उचित पौध संख्या हेतु.

 

बीजोपचार

लगभग ५०० ली. पानी के साथ छिड़काव

----

----

2.

नीला भृंग (निओरिनी स्पी.)

Blue beetle (Cneorane spp.)

१.५ ली./हेक्ट. की दर से क्वीनाल्फोस २५ ई. सी. का छिड़काव करें.

 

पौध अवस्था में जब कीट संख्या ४ भृंग/मी. से अधिक हों.

 

भृंग द्वारा पौध-वृद्धि वाले भाग को करने से रोकने हेतु.

 

लगभग ५०० ली. पानी के साथ छिड़काव

 

कम पानी का प्रयोग नहीं करें

 

कम पानी के साथ छिड़काव करने से फ़सल पर कीटनाशक का उचित फैलाव नहीं होता है.

3.

अर्द्ध कुंडलक इल्लियां (गेसोनिया गेमा, क्रायसोडेक्सिस एक्यूटा, डाईक्रेसिया ओरिचाल्सिया)

Semiloopers (Gessonia gemma, Chrysodeixis acuta, Diachrysia orichalcea)

पोटाश सहित अनुशंसित मात्रा में उर्वरक का उपयोग करें. निम्न कीटनाशकों में से किसी एक का उपयोग करें:

बुवेरिया बसिआना या

बेसिलस थुरिनजिएनसीस @ १.० किलो/हेक्टे. या

क्लोरपाईरिफास/ क्विनाल्फोस @ १.५ ली./हेक्टे. या क्लोरएन्ट्रानिलीप्रोल @ १०० मि.ली./हेक्टे. या इंडोक्साकार्ब @ ५०० मी.ली./हेक्टे. या पूर्व मिश्रित कीटनाशक बीटासाईफ्लुथ्रिन + इमिडाक्लोप्रिड @ ३५० मी.ली./हेक्टे.

बोवाई के समय




अर्द्ध कुंडलक इल्लियों का प्रकोप प्रारंभ हो जाये.

 

 

पोटाश फ़सल को कीट-व्याधि के प्रति प्रतिरोध क्षमता प्रदान करता है.



इल्लियों को आर्थिक हानि सीमा के नीचे रखने हेतु एवं पत्तियों को नुक्सान से बचाने हेतु.

 

 

खेत में बिखेरें या फर्टी-सीड ड्रिल से डालें.

 

 

 

बीज को उर्वरक के साथ नहीं मिलाएं.

 

गैर-अनुशंसित कीट नाशकों का प्रोयोग नहीं करें.

खड़ी फसल में अनावश्यक रूप से यूरिया का प्रयोग नहीं करें.


अंकुरण प्रभावित होता है.




गैर-अनुशंसित कीटनाशकों के प्रभाव की जानकारी नहीं होती है.



फसल में हरापन आ जाता है जो कीटों को आकर्षित करता है.

 

4.

तम्बाकू की इल्ली

 

Tobacco caterpillar (Spodoptera litura)

खेतों में तम्बाकू की इल्ली के लिए उपयुक्त फिरोमोन ट्रैप लगायें.

खेतों का भलीभांति सर्वेक्षण करें एवं जिस पत्ती या पौधे पर झुंड में इल्लियाँ दिखाई दे रही हों उन्हें निकल कर नष्ट कर दें.

तम्बाकू की इल्ली के लिए विशेष एन.पी.वी. 250 एल.ई./हेक्टे की दर से या

क्विनालफोस 1.5 ली./हेक्टे., या

इंडोक्सकार्ब १४.5 एस.सी.

५०० मी.ली./हेक्टे., या

स्पैनोटरम ११.७ एस.सी. ४५० मी.ली./हेक्टे. का छिड़काव करें.

बोवाई से २०-२५ दिन बाद.

 



 

फिरोमोन ट्रैप में वयस्कों के आने के 7-10 दिन बाद.
इल्लियों की बड़ी अवस्था दिखलाई पड़ने पर.

तम्बाकू की इल्ली के प्रकोप की निगरानी करने हेतु.




इल्लियों की प्रारंभिक अवस्था के नियंत्रण हेतु.
इल्लियों की बड़ी अवस्था के नियंत्रण हेतु.

10-12 प्रति हेक्टे.


 

 

 

 

 

चाय के एक चम्मच बराबर नील पाउडर प्रति टंकी डालें.

कीट नाशक का घोल ५०० ली./हेक्टे. की दर से प्रयोग करें.


फिरोमोन केप्सूल को खुले हाथ से ना पकड़ें.

NPV का उपयोग किसी रासायनिक कीट नाशक के साथ एवं तेज धुप में ना करें.

 

 

ऐसा करने से फिरोमोन का प्रभाव कम हो जायेगा एवं वांछित परिणाम प्राप्त नहीं होंगे.

 

5.

चने की फली छेदक इल्ली

Gram pod borer (Helicoverpa armigera)

खेतों में चने की इल्ली के लिए उपयुक्त फिरोमोन ट्रैप लगायें.

 

चने की इल्ली के लिए विशेष एन.पी.वी. 250 एल../हेक्टे की दर से या

क्विनालफोस 1.5 ली./हेक्टे., या

इंडोक्सकार्ब १४.5 एस.सी.

५०० मी.ली./हेक्टे.,


बोवाई से लगभग २० दिन बाद.

 

फिरोमोन ट्रैप में वयस्कों के आने के 7-10 दिन बाद.
इल्लियों की बड़ी अवस्था दिखलाई पड़ने पर.

तम्बाकू की इल्ली के प्रकोप की निगरानी करने हेतु.


इल्लियों की प्रारंभिक अवस्था के नियंत्रण हेतु.

इल्लियों की बड़ी अवस्था के नियंत्रण हेतु.

10-12 प्रति हेक्टे.


चाय के एक चम्मच बराबर नील पाउडर प्रति टंकी डालें.

 

कीट नाशक का घोल ५०० ली./हेक्टे. की दर से प्रयोग करें.

फिरोमोन केप्सूल को खुले हाथ से ना पकड़ें.

NPV का उपयोग किसी रासायनिक कीट नाशक के साथ एवं तेज धुप में ना करें.

 

 

ऐसा करने से फिरोमोन का प्रभाव कम हो जायेगा एवं वांछित परिणाम प्राप्त नहीं होंगे.

 

6.

चक्र भृंग

Girdle beetle (Obereopsis bevies)

छोटे खेतों में से चक्र भृंग द्वारा ग्रसित पौधों को निकल दें.

 

बड़े खेतों में चक्र नियंत्रण हेतु ट्राईझोफोस का ८०० मी.ली. या थाईक्लोप्रिड का ६५० मी.ली. या पूर्व मिश्रित कीटनाशक बीटासाईफ्लुथ्रिन + इमिडाक्लोप्रिड का ३५० मी.ली./हेक्टे. की दर से छिड़काव करें.

ग्रसित पत्तियों के लटकने / मुरझाने के ७ दिनों के अन्दर निकल दें अथवा छिड़काव करें.




प्रकोप की तीव्रता कम करने के लिए.

 

चक्र भृंग के अण्डों एवं इल्लियों को नष्ट करने के लिए.

 

ग्रसित पत्तियों/ पौधों के भाग को चक्र के नीचे से तोड़ कर खेत के बहार जमीन में दबा दें.

कीटनाशक घोल का ५०० लीटर/हेक्टे. के दर से प्रयोग करें.

 

 

 

बोवाई के लिए अधिक बीज दर का प्रयोग नहीं करें.

कीटनाशकों का बिना जानकारी के अनावश्यक रूप से मिश्रण नहीं करें.

 

अधिक घनी फसल में कीट प्रकोप अधिक होता है.

 

कीटनाशकों का गलत मिश्रण उनके प्रभाव को कम कर सकता है.

 

7.

सफ़ेद मक्खी

White fly

(Bemisia tabaci)

1.     थायमिथोक्सम ३० ऍफ़.एस. से १० मी.ली./किलो बीज की दर से बीजोपचार करें.

2.     खेतों में पीला चिपचिपा ट्रैप लगायें.

3.     पीला मोजाइक रोग ग्रसित पौधों को तुरंत निकल दें.

4.     पूर्व मिश्रित कीटनाशक बीटासाईफ्लुथ्रिन + इमिडाक्लोप्रिड का ३५० मी.ली./हेक्टे. की दर से छिड़काव करें.

1.     बोवनी से पूर्व.

2.     सफ़ेद मक्खी के वयस्क दिखलाई देने पर.

3.     पीला मोजाइक रोग के लक्षण दिखलाई देने पर.

4.    सफ़ेद मक्खी के वयस्क नियंत्रित करने हेतु.

उपरोक्त सभी उपाय सामुहिक रूप से अपनाये जाने चाहिए.

1.    प्रराम्ब्भिक अवस्था में प्रकोप के कारण होने वाली पौध-मृत्यु दर को रोकने के लिए.

2.    पीला रंग सफ़ेद मक्खी के वयस्कों को आकर्षित करता है.

3.    पीला मोजाइक रोग के विषाणु का स्त्रोत नष्ट करने के लिए.

4.    सफ़ेद मक्खी के नियंत्रण एवं पीला मोजाइक रोग को फैलने से रोकने के लिए.

1.    कीटनाशक से बीजोपचार करें.

2.     1x 2 आकर के बोर्ड को पीले रंग से पेंट करें एवं उस पर सरसों का तेल या ग्रीस लगा दें. १०-१५ बोर्ड/हेक्टे. लगायें.

3.     खेत का भलीभांति सर्वेक्षण करें एवं पीला मोजाइक रोग ग्रसित पौधों को चिन्हित करें.

4.     कीटनाशक घोल का ५०० लीटर/हेक्टे. के दर से प्रयोग करें.

1.    सोयाबीन के पास मूंग एवं उर्द की पीला मोजाइक रोग संवेदनशील प्रजातियों का प्रयोग नहीं करें.

2.    संशलेषित पायरेथ्रोइड्स समूह के कीटनाशकों का प्रयोग नहीं करें.

 

1.    मूंग एवं उर्द की फसलों में भी सफ़ेद मक्खी का प्रकोप होता है एवं पीला मोजाइक रोग लगता है.

2.    संशलेषित पायरेथ्रोइड्स समूह के कीटनाशकों से रस चूसने वाले कीटों का पुनरुत्थान होता है.